:
दिल्ली हरियाणा पंजाब चंडीगढ़ हिमाचल प्रदेश राजस्थान उत्तराखण्ड महाराष्ट्र मध्य प्रदेश गुजरात नेशनल छत्तीसगढ उत्तर प्रदेश
ताज़ा खबर
स्कूली बच्चें बने सड़क सुरक्षा के प्रहरी - अमित गुलिया   |  रेलवे महिला कल्‍याण संगठन द्वारा स्कूलों में आयोजित किया गया वार्षिक समारोह   |  पूर्वी दिल्ली के प्रतिभा स्कूल को मिलेगी नयी सुविधाएं- महापौर   |  सनशाईन पब्लिक स्कूल का वर्ष 2014-15 का वार्षिक परीक्षा परिणाम घोषित    |  यूजीसी को भंग करने का कोई ऐसा निर्णय नहीं   |  सिरसा: स्कूल में दिलाई कन्या भ्रूण हत्या न करने की शपथ   |  सिरसा :जगन्नाथ जैन पब्लिक स्कूल में हुआ सेमिनार का आयोजन   |  अल्‍पसंख्‍यक शिक्षा योजना में अल्‍पसंख्‍यकों की शिक्षा का बढेता स्तर   |  राष्ट्रीय सिंधी भाषा संवर्धन परिषद (एनसीपीएसएल) की बैठक   |  ऑक्सफोर्ड सीनियर सैकेंडरी स्कूल में हुई फेयरवैल पार्टी    |  
22/12/2014  
बागवानों को 14.47 करोड़ रुपये की 336 मिट्रिक टन दवाइयां वितरित
 
 

बागवानी मंत्री श्रीमती विद्या स्टोक्स ने आज यहां कहा कि प्रदेश में बागवानी गतिविधियों को वैज्ञानिक तरीके से विकसित किया जा रहा है। बागवानी मंत्री ने कहा कि पौध संरक्षण कार्यक्रम के अन्तर्गत गत दो वर्षों में बागवानों को पर्याप्त मात्रा में कीटनाशक दवाइयां उपलब्ध करवाई गई हैं। वर्ष 2014-15 में नवम्बर, 2014 तक बागवानों को 14-47 करोड़ रुपये की 336 मिट्रिक टन दवाइयां वितरित की गई हैं।

उन्होंने कहा कि वर्ष 2011-12 में 11-18 करोड़ रुपये की 327 मिट्रिक टन वर्ष 2012-13 में 12-99 करोड़ रुपये की 345 मिट्रिक टन दवाइयां वितरित की हैं। पिछले दो वर्षों के मुकाबले वर्ष 2013-14 में 15.06 करोड़ रुपये की 425 मिट्रिक टन दवाइयां वितरित की गई। उन्होंने कहा कि इसके तहत गत चार वर्षों में 15.97 करोड़ रुपये की अनुदान राशि व्यय की गई है तथा प्रदेश में विभिन्न फलों में लगने वाले रोगों तथा कीटों से पूर्ण रूप से रोकथाम सुनिश्चित करने के लिए सरकार प्रयासरत है।

उन्होंने कहा कि बागवानों को फलदार पौधों में लगने वाले रोगों एवं कीटों की रोकथाम के लिए पौध संरक्षण कार्यक्रम के माध्यम से तकनीकी सेवा एवं प्रशिक्षण इत्यादि उपलब्ध करवाया जा रहा है। बागवानी विभाग के 351 केन्द्रों के माध्यम से पौध संरक्षण के लिए विभिन्न दवाइयां अनुदान पर उपलब्ध करवाई जा रही हैं। इसके अतिरिक्त, वार्षिक छिड़काव सारणियां भी बागवानों को मुफ्त उपलब्ध करवाई जा रही हैं।

श्रीमती स्टोक्स ने कहा कि गत दो वर्षों में जिन बागवानों ने बागीचों में दवाइयों का छिड़काव किया है, उनके बागीचों में कीटों की रोकथाम में सफलता मिली है।

Back